Saturday, October 1, 2011

हाँ, मैं हूँ कवि !

हाँ, मैं हूँ कवि !
कारण,
वियोग है मन में
आँखों से कविता छलकी
और आह छिपा गायन में
हां ,
मै हूँ कवि !!

----------------- --- अरुन श्री !

No comments:

Post a Comment